My RevolutionPARTs

धुंध की चादर में लिपटा Delhi-NCR, हवा की क्वालिटी सीजन के सबसे खराब स्तर पर


दिल्ली में मौसम का सबसे कम तापमान, वायु गुणवत्ता ‘बेहद खराब’

शहर में दीवाली के बाद पिछले आठ में से छह दिनों में हवा की गुणवत्ता खराब स्तर पर दर्ज की गई है. दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) के एक विश्लेषण के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में लोग हर साल 1 नवंबर से 15 नवंबर के बीच सबसे खराब हवा में सांस लेते हैं. 

फरीदाबाद (460), गाजियाबाद (486), ग्रेटर नोएडा (478), गुरुग्राम (448) और नोएडा (488) में भी शाम चार बजे हवा की गुणवत्ता बेहद खराब दर्ज की गई. शून्य और 50 के बीच AQI “अच्छा”, 51 और 100 “संतोषजनक”, 101 और 200 “मध्यम”, 201 और 300 “खराब”, 301 और 400 “बहुत खराब” माना जाता है, और 401 और 500 “गंभीर” माना जाता है.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, दिल्ली-एनसीआर में पीएम 2.5 के नाम से जाने जाने वाले फेफड़ों को नुकसान पहुंचाने वाले महीन कणों की 24 घंटे की औसत सांद्रता आधी रात के आसपास 300 का आंकड़ा पार कर गई और शुक्रवार शाम चार बजे 381 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर पर पहुंच गई. यह ६० माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर की सुरक्षित सीमा से छह गुना अधिक है. वहीं पीएम10 का स्तर 577 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज किया गया.

‘ईंट भट्टे बंद, पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ावा’, दिल्ली-NCR में प्रदूषण के मद्देनजर CPCB ने संभाला मोर्चा

ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (जीआरएपी) के मुताबिक, अगर पीएम 2.5 और पीएम 10 का स्तर 48 घंटे या उससे अधिक समय तक क्रमश 300 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर और 500 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर से ऊपर बना रहता है तो हवा की गुणवत्ता आपातकालीन श्रेणी में मानी जाती है. 

मौसम विभाग के आधिकारी ने बताया, इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे और सफदरजंग हवाई अड्डे पर दृश्यता का स्तर मध्यम कोहरे के कारण 200-500 मीटर तक गिर गया. आर्द्रता अधिक होने के कारण शुक्रवार को कोहरा घना हो गया.

दिल्ली की एयर क्वालिटी बेहद खराब, रोज बढ़ रहा प्रदूषण

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Subscribe to Our YouTube Channel

Follow Us

Related Posts

My Revolution parts

Subscribe to our YouTube channel