My RevolutionPARTs

वर्ष 2021 पृथ्वी का पांचवां सबसे गर्म साल था : अध्ययन

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

हाल ही में कोपरनिकस क्लाइमेट चेंज सर्विस (Copernicus Climate Change Service) द्वारा एक रिपोर्ट सार्वजनिक की गई, जो एक यूरोपीय संघ का कार्यक्रम है। इस रिपोर्ट में पाया गया कि, 2021 पृथ्वी पर पांचवां सबसे गर्म वर्ष था।

रिपोर्ट के प्रमुख निष्कर्ष

  • इस रिपोर्ट के अनुसार, पिछले सात साल रिकॉर्ड पर सबसे गर्म रहे हैं। ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन में निरंतर वृद्धि के कारण उन 12-महीने की अवधि में 2021 को पांचवें स्थान पर रखा गया है।
  • वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन में वृद्धि से पृथ्वी को अपरिवर्तनीय क्षति हो सकती है।
  • इस रिपोर्ट में पाया गया कि, पूर्व-औद्योगिक स्तरों की तुलना में 2021 में औसत वैश्विक तापमान 1.1 से 1.2 डिग्री सेल्सियस अधिक था।
  • वैज्ञानिकों के अनुसार औसत तापमान में 1.5 डिग्री सेल्सियस से अधिक की वृद्धि से पृथ्वी को स्थायी नुकसान हो सकता है और इसका भारी हानिकारक पर्यावरणीय प्रभाव हो सकता है।

यूरोप में सबसे गर्म ग्रीष्मकाल

2021 यूरोप में अत्यधिक तापमान और गर्मी का वर्ष था। यूरोप में, भारी वर्षा के कारण विनाशकारी बाढ़ भी देखी गई। सिसिली (इटली) में, यूरोप में रिकॉर्ड किए गए इतिहास में सबसे गर्म तापमान का अनुभव किया गया।

सैटेलाइट डेटा क्या दिखाता है?

  • प्रारंभिक उपग्रह डेटा से पता चलता है कि 2021 में कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन में वृद्धि जारी रही। कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन जीवाश्म ईंधन के जलने सहित एक व्यापक स्रोत से आता है। हालांकि, हाल के वर्षों की तुलना में बढ़ती दर में वृद्धि थोड़ी कम थी।
  • मीथेन का स्तर, जो कि दूसरा सबसे अधिक प्रचलित ग्रीनहाउस गैस है, 2021 में भी काफी बढ़ गया है।

Categories: पर्यावरण एवं पारिस्थिकी करेंट अफेयर्स

Tags:Copernicus Climate Change Service , Global Warming , Hindi Current Affairs , Hindi News , ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन

Subscribe to Our YouTube Channel

Follow Us

Related Posts

My Revolution parts

Subscribe to our YouTube channel