भारत ने किर्गिस्तान का समर्थन करने के लिए $200 मिलियन LoC पर सहमती प्रकट की


विदेश मंत्री एस. जयशंकर के अनुसार, भारत किर्गिस्तान में विकास परियोजनाओं के लिए 200 मिलियन अमरीकी डालर की ऋण सहायता पर सहमत हो गया है।

मुख्य बिंदु 

  • बिश्केक में विदेश मंत्री एस. जयशंकर और किर्गिस्तान के विदेश मंत्री रुस्लान कजाकबायेव के बीच बैठक के बाद इस लाइन ऑफ क्रेडिट पर सहमति बनी।
  • कजाकिस्तान CICA फोरम का वर्तमान अध्यक्ष और आरंभकर्ता हैं।
  • जयशंकर कजाकिस्तान के उप-प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री मुख्तार तिलुबेर्दी के साथ भी द्विपक्षीय वार्ता करेंगे।
  • इस बैठक के दौरान, जयशंकर ने दोनों देशों के बीच भारतीय छात्रों की जल्दी यात्रा और उदार वीजा व्यवस्था की आवश्यकता पर भी चर्चा की।

भारत-किर्गिज़ गणराज्य संबंध

भारत और किर्गिज़ गणराज्य के बीच राजनयिक संबंध 21वीं सदी में और अधिक महत्वपूर्ण हो गए हैं। दोनों देश मध्य एशिया क्षेत्र में व्यापक वाणिज्यिक और रणनीतिक साझेदारी विकसित करना चाहते हैं। 1992 में सोवियत संघ के विघटन के बाद भारत ने सोवियत संघ से कजाकिस्तान की स्वतंत्रता को मान्यता दी। हाल के वर्षों में, भारत कजाकिस्तान के साथ अपने वाणिज्य और रणनीतिक संबंधों को बढ़ाने की दिशा में काम कर रहा है। कजाकिस्तान महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका मध्य एशिया में व्यापक तेल, प्राकृतिक गैस और खनिज भंडार से युक्त एक प्रमुख क्षेत्र पर नियंत्रण है। भारत चीन के बढ़ते आर्थिक और सामरिक प्रभाव की पृष्ठभूमि में अपने संबंधों का विस्तार करना चाहता है।

भारत-कजाखस्तान ऊर्जा सहयोग

भारत अपनी विशाल ऊर्जा जरूरतों को पूरा करने के लिए एक स्वच्छ विकल्प के रूप में परमाणु ऊर्जा उद्योग के विकास के लिए काम कर रहा है। कजाकिस्तान में परमाणु ऊर्जा के लिए आवश्यक विशाल यूरेनियम है। इस प्रकार, भारत कजाकिस्तान के साथ एक मजबूत संबंध विकसित कर रहा है।

Categories: अंतर्राष्ट्रीय करेंट अफेयर्स

Tags:किर्गिस्तान , भारत-कजाखस्तान ऊर्जा सहयोग , भारत-किर्गिज़ गणराज्य संबंध , हिंदी करेंट अफेयर्स , हिंदी समाचार



Source link

Subscribe to Our YouTube Channel

Follow Us

My Revolution parts

Subscribe to our YouTube channel