फेसबुक का नाम बदलकर ‘मेटा’ किया गया


Facebook Inc. ने 28 अक्टूबर, 2021 को अपना नाम और लोगो बदलकर Meta Platforms Inc. कर लिया है।

मुख्य बिंदु 

  • Facebook Inc. का नाम बदलकर Meta Platforms Inc., या मेटा कर दिया गया है, जो “मेटावर्स” नामक नई सराउंड-योरसेल्फ तकनीक विकसित करने की अपनी प्रतिबद्धता को दर्शाता है।
  • हालाँकि, सोशल नेटवर्क को अभी भी फेसबुक ही कहा जाएगा।
  • कंपनी की रीब्रांडिंग एक वर्चुअल दुनिया को विकसित करने और “कंपनी के एप्स और तकनीकों को एक नए कंपनी ब्रांड के तहत लाने” की बड़ी योजना का हिस्सा है।

पृष्ठभूमि

जब से फेसबुक 2004 में लॉन्च हुआ था, उसने इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया एप्प खरीदे हैं। इसने वीडियो-कॉलिंग डिवाइस पोर्टल, वर्चुअल रियलिटी सिस्टम ओकुलस और डिजिटल वॉलेट नोवी जैसी तकनीकों में भी निवेश किया है। हालाँकि, संशयवादी यह भी सुझाव दे रहे हैं कि यह कदम फेसबुक पेपर लीक से ध्यान हटाने का एक प्रयास है।

फेसबुक पेपर लीक क्या है?

फेसबुक के एक पूर्व कर्मचारी ने फेसबुक के पेपर लीक किए थे। इन पेपरों से पता चला कि फेसबुक ने दुनिया में अपने सोशल नेटवर्क एल्गोरिदम द्वारा बनाए या बढ़ाए गए नकारात्मक और हानिकारक परिणामों के बारे में आंतरिक चेतावनियों को कैसे नजरअंदाज या कम कर दिया। इससे पता चलता है कि, फेसबुक दुनिया भर में नफरत, गलत सूचना और राजनीतिक संघर्ष के अपने प्लेटफार्म से हटाने की बजाय अपने फायदे को ज्यादा महत्व दे रहा है।

मेटावर्स क्या है?

यह एक “वर्चुअल वातावरण” है जिसमें लोग केवल स्क्रीन पर देखने के बजाय अंदर जा सकते हैं। इस प्लेटफॉर्म के माध्यम से लोग वर्चुअल रियलिटी हेडसेट, स्मार्टफोन एप्प और ऑगमेंटेड रियलिटी ग्लास का उपयोग करके मिल सकते हैं, खेल सकते हैं और काम कर सकते हैं।

Categories: अर्थव्यवस्था करेंट अफेयर्स

Tags:Current Affairs in Hindi , Facebook Inc. , Hindi Current Affairs , Hindi News , Meta , Meta Platforms Inc. , फेसबुक , फेसबुक पेपर लीक , मेटावर्स



Source link

Subscribe to Our YouTube Channel

Follow Us

My Revolution parts

Subscribe to our YouTube channel