My RevolutionPARTs

जेम्स वेब टेलीस्कोप को तैनात किया गया

Share on facebook
Share on twitter
Share on linkedin
Share on whatsapp

जेम्स वेब टेलीस्कोप को नासा ने क्रिसमस की पूर्व संध्या पर लॉन्च किया था। यह टेलीस्कोप हबल टेलीस्कोप की जगह लेगा।

जेम्स वेब टेलीस्कोप (James Webb Telescope)

इसे नासा, कनाडाई अंतरिक्ष एजेंसी और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा संयुक्त रूप से विकसित किया गया था। इसे एरियन रॉकेट से लॉन्च किया गया था।

मील के पत्थर

13.7 अरब साल पहले बनी आकाशगंगाओं और तारों को स्कैन करने के लिए इस टेलीस्कोप लॉन्च किया गया है। इस टेलीस्कोप की कीमत 10 अरब डॉलर है।

जेम्स वेब टेलीस्कोप की तैनाती

टेलीस्कोप को अपने सही रूप में संरेखित होने (align) में 15 दिन लगे। इसमें 18 खंड थे और वे सभी मैन्युअल रूप से संरेखित किये गये। दर्पणों को संरेखित करने में 12 दिन लगे। संरेखण प्रक्रिया अभी भी चल रही है और इस टेलिस्कोप को अपनी पहली उड़ान के लिए तैयार होने में तीन महीने लगेंगे।

उद्देश्य

  • यह टेलीस्कोप हबल की दूरबीन से भी आगे देखने में सक्षम होगा। इसके दर्पण IR (इन्फ्रा रेड) से जुड़े होते हैं।
  • जेम्स वेब टेलीस्कोप बाह्यग्रह और वायुमंडल का अध्ययन करेगा।
  • साथ ही, यह टेलीस्कोप पृथ्वी के समान वायुमंडल की खोज करेगा।
  • यह बिग बैंग के दौरान बनी आकाशगंगाओं की खोज करेगा। साथ ही यह आकाशगंगाओं के विकास की प्रक्रिया को भी निर्धारित करेगा। यह तारों के गठन का निरीक्षण करेगा। साथ ही टेलीस्कोप ग्रहों के रासायनिक और भौतिक गुणों को भी मापेगा।

स्थान

टेलीस्कोप को एक ऐसी कक्षा में स्थापित किया जायेगा जो पृथ्वी से 1.5 मिलियन किलोमीटर दूर है। इसे दूसरा लैग्रेंज प्वाइंट L2 कहा जाता है। इसे पृथ्वी की कक्षा में स्थापित नहीं किया गया है।

Categories: विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी करेंट अफेयर्स

Tags:James Webb Telescope , UPSC , UPSC 2022 Hindi , करंट अफेयर्स , जेम्स वेब टेलीस्कोप , हिंदी समाचार

Subscribe to Our YouTube Channel

Follow Us

Related Posts

My Revolution parts

Subscribe to our YouTube channel