सेना में शामिल होंगे 118 अर्जुन टैंक: 6000 करोड़ खर्च करने के लिए तैयारी में रक्षा मंत्रालय; PM मोदी ने 14 फरवरी को राष्ट्र को समर्पित किया था

  • Hindi News
  • National
  • Arjun Mark1A Tanks Induction Cleared By Defence Ministry | Indian Army Defence News Update

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नई दिल्ली24 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
चेन्नई में प्रधानमंत्री नरेंद्र ने अर्जुन टैंक को राष्ट्र को समर्पित किया था। इस दौरान उन्होंने जवानों से मुलाकात भी की थी। आर्मी चीफ एमएम नरवणे भी मौजूद थे। - Dainik Bhaskar

चेन्नई में प्रधानमंत्री नरेंद्र ने अर्जुन टैंक को राष्ट्र को समर्पित किया था। इस दौरान उन्होंने जवानों से मुलाकात भी की थी। आर्मी चीफ एमएम नरवणे भी मौजूद थे।

भारतीय सेना 118 अर्जुन टैंक की खरीदारी को मंजूरी देने की तैयारी में हैं। इसके लिए 6000 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। रक्षा मंत्रालय ने हाल ही में भारतीय सेना में अर्जुन मार्क-1A टैंकों को शामिल करने की मंजूरी दी थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 14 फरवरी को तमिलनाडु दौरे पर इसे राष्ट्र को समर्पित किया था।

जल्द ही अप्रूवल मिल सकता है
सूत्रों के हवाले से न्यूज एजेंसी ने बताया कि डिफेंस एक्विजिशन काउंसिल की मीटिंग में रक्षा मंत्रालय प्रपोजल को अंतिम रूप दे सकता है। इस दौरान चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत और सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवणे भी मौजूद रहेंगे।

124 अर्जुन टैंकों के पहले बैच में शामिल होगा
भारतीय सेना के साथ मिलकर DRDO ने इन टैंकों को पूरी तरह से डिजाइन और विकसित किया है। 124 अर्जुन टैंकों के पहले बैच में इन 118 टैंकों को भी शामिल किया जाएगा। इन्हें पहले ही सेना में शामिल किया जा चुका है और ये पाकिस्तान मोर्चे पर पश्चिमी रेगिस्तान में तैनात हैं। 118 अर्जुन टैंक भी पहले 124 टैंकों की तरह भारतीय सेना के आर्मर्ड कॉर्प्स में दो रेजिमेंट बनाएंगे।

रेजिमेंट की फॉर्मेशन के लिए टैंकों की संख्या घटाई गई
अधिकारियों ने बताया कि सेना ने टैंक रेजिमेंट की फॉर्मेशन के लिए जरूरी टैंकों की संख्या को कम कर दिया है। इसीलिए मौजूदा हालात में दो रेजिमेंटों के लिए पिछले निर्देश की तुलना में 6 कम टैंक हैं। DRDO पिछले कुछ समय से अर्जुन मार्क-1A विकसित कर रहा है। बिपिन रावत और DRDO चीफ डॉ. जी सतीश रेड्डी के नेतृत्व में सशस्त्र बलों में स्वदेशी को बढ़ावा देने के लिए लगातार काम किया जा रहा है।

Source link

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *